cashless transactions are not secure in india after demonetisation

by -

500 और 1,000 रुपये के नोटबंदी के बाद कैशलेस ट्रांजैक्शन में भारी बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है. पेटीएम, फ्रीचार्ज और मोबिक्विक जैसे मोबाइल वॉलेट का इस्तेमाल भी बढ़ गया है. वो लोग भी ऑनलाइन ट्रांजैक्शन कर रहे हैं जिन्हें इस बात का भी अंदाजा नहीं कि उनका स्मार्टफोन किसी भी वक्त हैक हो सकता है और हैकर उनके अकाउंट्स से पैसे उड़ा सकते हैं. ब्लैक हैट हैकर्स के लिए स्मार्टफोन हैक करना बाएं हाथ का खेल है और एक बार स्मार्टफोन हैक हो गया तो कैशलेस ट्रांजैक्शन आपके लिए किसी बुरे सपने से कम नहीं होगा.


देखा जाए तो ऑनलाइन ट्रांजैक्शन में इस्तेमाल होने वाले सभी टूल खतरे से खाली नहीं हैं . क्रेडिट, डेबिट कार्ड, इंटरनेट बैंकिंग हों या फिर ई-वॉलेट इन सभी को हैक करना नामुमकिन नहीं है. आए दिन ऑनलाइन फ्रॉड का मामला सामने आता है. हाल ही में एटीएम फ्रॉड का मामल तो आपको याद ही होगा.

भारत में इसलिए कैशलेस ट्रांजैक्शन हैं खतरनाक
सिक्योरिटी अपडेट - भारत में ज्यादातर लोगों के पास ऐसे स्मार्टफोन्स हैं जिनमें या तो नए सॉफ्टवेयर अपडेट नहीं होते या फिर होते भी हैं तो इंटरनेट स्लो होने की वजह से उन्हें इग्नोर कर देते हैं. जाहिर है जिस स्मार्टफोन में नए अपडेट और सिक्योरिटी पैच नहीं मिलेंगे वो हैकर के लिए सॉफ्ट टार्गेट का काम करेगा. यानी जितने पुराने स्मार्टफोन उतना ही ज्यादा खतरा.


HTTPS के बारे में कम है जानकारी: आमतौर पर ट्रांजैक्शन के वक्त लोग ये देखते की उस कनेक्शन के URL में HTTPS है या नहीं. साधारण शब्दों में कहें तो ब्राउजर के URL box के बायीं तरफ अगर पैडलॉक का आइकन है तो वो HTTPS है अगर नहीं तो वो सिक्योर नहीं है. HTTPS वाला कनेक्शन नहीं है तो समझ लीजिए की आप लुटने वाले हैं.
हिस्ट्री और कैशे: क्या आपको याद है आपने आखिरी बार अपने स्मार्टफोन के ब्राउजर से हिस्ट्री और कैशे कब क्लियर किया है? हिस्ट्री और कैशे आपके मोबाइल में स्टोर है तो हैकर्स के लिए आपके ऑनलाइन ट्रांजैक्शन की जानकारी हासिल करना और भी आसान है. इसपर ध्यान रखें.


स्मार्टफोन लॉक: आप स्मार्टफोन लॉक रखते हैं तो अच्छी बात है, लेकिन अभी भी ऐसे कई यूजर हैं जो अपना मोबाइल लॉक नहीं रखते. अगर स्मार्टफोन लॉक नहीं होगा, तो बस आप हैकर की जद में जल्दी ही आ जाएंगे. क्योंकि हैकर कोई दूसरे प्लैनेट पर नहीं होते वो आप में से कोई होते हैं, क्या पता आपका कोई दोस्त ही हो.

पॉप अप: स्मार्टफोन में इंटरनेट यानी विज्ञापनों की भरमार. पॉप अप भी एक ऐड का जरिए जिसमें काफी दिलचस्प हेडिंग से आपको लुभाया जाता है. आप न चाह कर भी क्लिक कर देते हैं और फिर आप हैकर के कंट्रोल में होते हैं. आज नहीं तो कल वो आपके ऑनलाइन ट्रांजैक्शन में सेंध लगाने की कोशिश करेंगे ही.


पुराने इंटरनेट ब्राउजर: आमतौर पर आपने मोबाइल इंटरनेट ब्राउजर का अपडेट इग्नोर ही किया होगा , लेकिन यह आपके लिए खतरनाक हो सकता है. नए अपडेट के जरिए दरअसल नए सिक्योरिटी पैच दिए जाते हैं जो ब्राउजर को हैक होने और मैलवेयर से बचाते हैं. इसलिए पुराने इंटरनेट ब्राउजर के जरिए होने वाले ट्रांजैक्शन और भी ज्यादा खतरनाक हो जाते हैं.

डिजिटल सर्टिफिकेशन: ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करते वक्त डिजिटल सर्टिफिकेशन पर ध्यान दिया है? VeriSign जैसी डिजिटल सर्विस वेबसाइट को सिक्योरिटी देती हैं. ब्राउजर के में URL के बायीं तरफ लोगो होता है उसे देख लें. क्योंकि सर्टिफिकेशन है तो इसकी क्लोनिंग नहीं की जा सकती है.




News Source

Related Stories